Sunday, April 21, 2024
HomeCrimeभाजपा के आईटी सेल पदाधिकारियों ने साथ मिलकर किया था बीएचयू की...

भाजपा के आईटी सेल पदाधिकारियों ने साथ मिलकर किया था बीएचयू की छात्रा से गैंगरेप, खुले ये राज अखिलेश ने उठाए सवाल

 वाराणसी। आईआईटी बीएचयू (BHU) की छात्रा के साथ गैंगरेप के तीनों आरोपी गिरफ्तार कर लिया गया है। वाराणसी पुलिस ने दो महिने बाद तीन आरोपी लंका थाना क्षेत्र के बृज इंक्लेव कॉलोनी निवासी कुणाल पांडेय, जिवधीपुर बजरडीहा के आनंद और सक्षम पटेल को गिरफ्तार कर लिया। शनिवार की देर रात पुलिस ने उन्हें संदिग्ध हाल में घूमते हुए बाइक के साथ पकड़ा। पूछताछ के बाद तीनों ने अपना जुर्म कुबूल कर लिया और कहा कि हथियार दिखाकर उन्होंने छात्रा के कपड़े उतरवाए थे। साथ ही उनका वीडियो भी बनाया था।

इनमें मुख्य अभियुक्त कुणाल पांडेय को भारतीय जनता पार्टी के आईटी सेल का सदस्य बताया जाता है। बाक़ी दोनों आरोपी भी भाजपा से जुड़े बताए जा रहे हैं, हालांकि इस पर अभी भाजपा का कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है। पुलिस ने संकेत तो दे दिए हैं लेकिन वह अभी इस पर विस्तार से बात करने से बच रही है। कहा गया है कि इस पूरे मामले पर पुलिस अधिकारी जल्द ही विस्तार से प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे।  

इंजीनियरिंग छात्रा के साथ गैंगरेप की वारदात से बीएचयू कैंपस में कई दिनों तक आंदोलन चला था। भारी विरोध-प्रदर्शन के बावजूद आरोपी नहीं पकड़े जा सके थे। आरोपितों को पकड़ने की जिम्मेदारी भेलूपुर के तत्कालीन एसीपी प्रवीण सिंह को सौंपी गई थी। गैंगरेप के अपराधी तब पकड़े जा सके, जब उनका बनारस से ट्रांसफर हो गया। अभियुक्तों की पहचान बृजइंक्लेव कॉलोनी सुंदरपुर के कुणाल पांडेय, जिवधीपुर (बजरडीहा) के आनंद उर्फ अभिषेक चौहान और सक्षम पटेल के रूप में हुई है।

खास बात यह है कि मुख्य अभियुक्त कुणाल पांडेय बीजेपी आईटी सेल का सदस्य बताया जाता है। आरोप है कि उसके कहने पर ही उसके साथियों ने आईआईटी छात्रा से गैंगरेप करने की योजना बनाई थी। कहा जाता है कि मुख्य अभियुक्त कुणाल पांडेय मनबढ़ किस्म का युवक है। अपनी धाक जमाने के लिए वह पीएम नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ, बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के साथ खिंचवाई गई तस्वीरों का इस्तेमाल किया करता था। अपने साथ इन नेताओं की तस्वीरें दिखाकर वह पुलिस अफसरों को धौंस भी देता था। पीएम, सीएएम और नड्‌डा समेत कई बीजेपी नेताओं के साथ उसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं।

आईआईटी छात्रा के साथ गैंगरेप की घटना के तत्काल बाद कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय राय ने ऐलानिया तौर पर आरोप लगाया था कि इस वारदात को सत्तारूढ़ दल से जुड़े लड़कों ने अंजाम दिया है। उस समय बीजेपी के नेताओं के इशारे पर लंका थाने में कांग्रेस नेता के खिलाफ एफआईआर दर्ज करा दी गई थी। सूत्र बताते हैं कि पुलिस ने उसी समय अभियुक्तों की शिनाख्त कर ली थी जब वारदात हुई थी। उस समय तीन राज्यों में चुनाव हो रहा था और इस मामले के तूल पकड़ने के बाद बीजेपी की साख पर बट्टा लगने की आशंका थी। फिलहाल लंका थाना पुलिस तीनों अभियुक्तों से कड़ी पूछताछ कर रही है। वारदात में प्रयुक्त बूलेट मोटरसाइकिल बरामद कर ली है। पुलिस असलहों की तलाश में जुटी है।

क्या था पूरा मामला 

बीएचयू कैंपस में एक नवंबर 2023 की रात आईआईटी छात्रा के साथ गन प्वाइंट पर गैंगरेप हुआ था। छात्रा ने अगले दिन सुबह लंका थाने में शिकायती पत्र दिया था। उसने पुलिस को बताया कि, “रात 1:30 बजे हॉस्टल से जरूरी काम से बाहर निकली। गांधी स्मृति चौराहे के पास मुझे मेरा दोस्त मिला। दोनों जा रहे थे कि रास्ते में कर्मन बाबा मंदिर से करीब तीन सौ मीटर दूर पीछे से एक बुलेट मोटरसाइकिल आई। उस पर तीन लड़के सवार थे। उन्होंने हथियार दिखाकर हमें रोका और मेरे दोस्त के साथ मारपीट शुरू कर दी। मेरा मुंह दबाकर मुझे एक कोने में ले गए। वहां पहले मुझे किस किया, उसके बाद कपड़े उतरवाए। मेरा वीडियो बनाया और फोटो खींची। मैं जब बचाव के लिए चिल्लाई तो मुझे मारने की धमकी दी। वह करीब आधे घंटे तक मुझे अपने कब्जे में रखा और फिर छोड़ दिया।”

“मेरी हालत खराब थी। बदहवास हालत में मैं हॉस्टल की ओर भागी तो पीछे से बाइक की आवाज आने लगी। डर के मारे एक प्रोफेसर के आवास में घुस गई और प्रोफेसर को आवाज दी। प्रोफेसर ने मुझे गेट तक छोड़ा। उसके बाद पार्लियामेंट सिक्योरिटी कमेटी के राहुल राठौर मुझे आईआईटी के पेट्रोलिंग गार्ड के पास लेकर गए।”

घटना की सूचना जैसे ही बीएचयू के छात्रों को मिली तो वो आगबबूला हो गए। करीब ढाई हजार स्टूडेंट्स राजपूताना हॉस्टल के बाहर पहुंचे और प्रदर्शन किया। देखते ही देखते भारी संख्या में छात्र विरोध में शामिल हो गए थे। स्टूडेंट्स ने विरोध करते हुए पूरा कैंपस बंद करा दिया था। क्लास और लैब में रिसर्च का काम भी बंद कर दिया गया था। पूरे कैंपस में इंटरनेट सर्विस बंद कर दी गई थी। घंटों छात्रों का धरना चला। IIT-BHU के डायरेक्टर ने पुलिस और छात्रों के साथ बैठक की और भरोसा दिया था कि एक सप्ताह के अंदर सभी अभियुक्त गिरफ्तार कर लिए जाएंगे। इसके बाद छात्रों ने प्रदर्शन खत्म किया था।

प्रशासन ने IIT-BHU और BHU के बीच दीवार बनाने का फैसला किया था। बाद में दीवार बनाने के फैसले को वापस ले लिया था। इस मामले में बनारस के पुलिस कमिश्नर मुथा अशोक जैन ने लंका इंसपेक्टर अश्विनी पांडेय को लाइनहाजिर कर दिया था। इस घटना में गैंगरेप का आरोप तब नत्थी किया गया जब पीड़िता ने मजिस्ट्रेट के सामने बयान दर्ज कराया। बाद में गैंगरेप की धारा 376(डी) जोड़ी गई।

यही है भाजपा का शर्मनाक दुष्कर्मी चेहरा

IIT BHU छात्रा के साथ गैंगरेप मामले में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय राय ने BJP पर लगाया आरोप लगाते हुए एक्स पर पोस्ट किया। उन्होंने कहा कि आरोपियों का बीजेपी के साथ रिश्ता है। उन्होंने कहा कि मुख्य आरोपी कुणाल पांडेय IT सेल महानगर संयोजक है, जबकि अन्य आरोपी ‘सक्षम पटेल BJP काशी क्षेत्र के अध्यक्ष का PA है। भाजपा से सवाल करते हुए उन्होंने कहा कि क्या यही है भाजपा का शर्मनाक दुष्कर्मी चेहरा?

क्या जारी रहेगी नारी के सम्मान से खिलवाड़ करने वाले भाजपाइयों को छूट

अखिलेश यादव ने तंज कसते हुए कहा हैं कि, ये हैं भाजपा के दिग्गज नेताओं की छत्रछाया में सरेआम पनपते और घूमते भाजपाइयों की वो नयी फसल, जिनकी ‘तथाकथित ज़ीरो टॉलरेंस सरकार’ में दिखावटी तलाश जारी है। आगे उन्होंने अपने ट्वीट की व्याख्या करते हुए कहा ये भाजपा के सर्वोच्च नेताओं से अभयदान प्राप्त वो भाजपाई हैं जिन पर बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी (BHU) में एक छात्रा के साथ अभद्रता की सीमाएँ पार करने का आरोप है।

अखिलेश यादव ने आगे भाजपा सरकार से सवाल करते हुए कहा, क्या नारी के सम्मान से खिलवाड़ करने वाले भाजपाइयों को खुली छूट जारी रहेगी।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments