Thursday, July 18, 2024
HomeLifestyleबोर्ड परीक्षा देने गलत सेंटर पर पहुँची 10वीं की निशा, पुलिस की...

बोर्ड परीक्षा देने गलत सेंटर पर पहुँची 10वीं की निशा, पुलिस की गाड़ी आई और 15 मिनट में मिल गई मंजिल: पिता की भूल, गुजरात के PI ने सुधारी

अहमदाबाद: गुजरात बोर्ड की परीक्षा के पहले दिन कच्छ जिले में कुछ ऐसा हुआ। बोर्ड की परीक्षाओं के बीच एक घटना इंटरनेट पर सामने आई है। इसने लोगों को हैरान कर दिया है। दरअसल, परीक्षा के पहले दिन भूलवश पिता ने अपनी बेटी को दूसरे परीक्षा केंद्र पर उतार दिया। बेटी परीक्षा केंद्र के अंदर गई और अपना रोल नंबर खोजती रही। परीक्षा केंद्र पर तैनात एक पुलिस इंस्पेक्टर की नजर उस लड़की पर पड़ी।

इंस्पेक्टर ने पूछताछ कि तो पता चला कि लड़की परीक्षा देने के गलत केंद्र पर आ गई है। उसके पिता उसे ड्रॉप करके जा चुके हैं तो इंस्पेक्टर ने बिना किसी देरी के छात्र की मदद का फैसला किया। यहां ऑन-ड्यूटी सिपाही ने छात्रा को चिंता में देखा और स्थिति को नियंत्रित करने के लिए उससे संपर्क किया। इंस्पेक्टर ने वहां पर 20 किलोमीटर की दूरी को अगले 15 मिनट में तय करके लड़की को उसके सही परीक्षा केंद्र पर पहुंचा दिया।

पुलिस इंस्पेक्टर ने छात्रा का सही समय पर परीक्षा केंद्र पहुंचाने के लिए सरकारी गाड़ी और लाइट के साथ हूटर का प्रयोग किया। इस घटना के बाद पुलिस इंस्पेक्टर के छात्रा की मदद करने की सोशल मीडिया पर जमकर तारीफ हो रही है। यह मामला सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद गृह राज्य मंत्री हर्ष संघवी तक पहुंचा तो उन्होंने भी ट्विवटर पर हैट्स ऑफ लिखकर तारीफ की है।

क्या था पूरा मामला?
कच्छ गुजरात का सबसे बड़ा जिला है। यहां पर एक दूसरे सेंटर और कस्बों की दूरी दूसरे शहरों के मुकाबले काफी ज्यादा है। ऐसे गांधीधाम में रहने वाली 10वीं की छात्र निशा जयंतीभाई सवानी पहले दिन गुजराती का पेपर देने भुज पहुंची थी। निशा के पिता ने उसे भुज के एक मातृछाया स्कूल में उतार दिया लेकिन निशा को बाद में पता चला कि परीक्षा आर डी वरसानी हाई स्कूल में देनी है। वह मातृछाया स्कूल में पहुंच गई है। ऐसे में निशा परेशान हो गई तो उसकी मदद के लिए पीआई जेपी धोला आगे आए और उसे सही परीक्षा केंद्र पर पहुंचाया। सही परीक्षा केंद्र पर पहुंचाने के लिए पीआई ने छात्रा को ऑल द बेस्ट भी बोला। इसी के साथ निशा के लिए यह जिंदगी भर नहीं भूलने वाली घटना बन गई।

पीआई की हो रही प्रशंसा
इस वाकए के फोटो के वायरल होने पर स्थानीय मीडिया से बातचीत में पीआई जेवी धोला ने कहा मुझे खुशी है कि मैं अपनी बेटी को परीक्षा केंद्र लेकर गया। ढोला ने कहा यह पहला वाकया नहीं है मुझे जब भी लोगों की मदद का मौका मिलता मैं करता हूं। अपने जीवन में कई सेवा कार्य किए हैं। इस घटना के फोटो को सोशल मीडिया पर शेयर किए जाने के बाद ढोला के काम की खूब तारीफ हो रही है। सोशल मीडिया पर इस फोटो पर यूजर्स की भी पॉजिटिव प्रतिक्रियाएं आ रही हैं। वे खाकी वर्दी पहने वाले जेवी धोला की तारीफ कर रहे हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments