Monday, July 15, 2024
HomeAstrologyआंध्र प्रदेश में होगी भगवान श्री राम की 108 फ़ीट सबसे ऊंची...

आंध्र प्रदेश में होगी भगवान श्री राम की 108 फ़ीट सबसे ऊंची प्रतिमा, 10 एकड़ में फैला होगा प्रोजेक्ट, 500 करोड़ से अधिक की है लागत

कुरनूल (आंध्र प्रदेश) केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने रविवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए आंध्र प्रदेश के कुरनूल जिले के मंत्रालयम में भगवान श्री राम की 108 फीट ऊंची प्रतिमा की आधारशिला रखी। जय श्री राम फाउंडेशन ‘पंचलोहा’ प्रतिमा स्थापित कर रहा है, जिसकी अनुमानित लागत 300 करोड़ रुपये है। श्री राघवेंद्र स्वामी मठ ने प्रतिमा के लिए 10 एकड़ जमीन दान में दी है, जो देश की सबसे ऊंची देवता की प्रतिमा होगी।

इस अवसर पर अपनी टिप्पणी में अमित शाह ने कहा कि इस प्रतिमा के साथ मंत्रालयम एक वैश्विक आध्यात्मिक पर्यटन केंद्र बन जाएगा। उन्होंने कहा कि यह प्रतिमा युगों-युगों तक पूरी दुनिया को सनातन धर्म का संदेश देगी और देश-दुनिया में वैष्णव परंपरा को मजबूत करेगी।

शाह ने ट्वीट किया, “प्रभु राम की विशाल प्रतिमा, जो भारत में सबसे ऊंची होगी, शहर को भक्ति की भावना से सराबोर कर देगी और लोगों को हमारी समृद्ध और शाश्वत सभ्यता के मूल्यों के प्रति अपनी प्रतिबद्धता में अटूट बने रहने के लिए प्रेरित करेगी। श्री राघवेंद्र स्वामी मठ के प्रमुख सुबुधेंद्र तीर्थ, जय श्री राम फाउंडेशन के संस्थापक रामू और श्रीधर, राज्य मंत्री जी.जयराम, भाजपा नेता टी.जी.वेंकटेश और अन्य माैजूद थे।

आंध्र प्रदेश के मंत्रालयम में भगवान राम की भव्य प्रतिमा की आधारशिला रखने के कार्यक्रम के दौरान गृह मंत्री अमित शाह ने मंत्रालयम दास साहित्य प्रकल्प के तहत की गई विभिन्न पहलों पर प्रकाश डाला. इन पहलों में आवास, अन्न दानम (भोजन दान), प्राण दानम (अंग दान), विद्या दानम (शिक्षा दान), पेयजल प्रावधान और गाय संरक्षण शामिल हैं। शाह ने अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण का रास्ता साफ करने में भूमिका के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भी सराहना की।

कई वर्षों से लंबित मंदिर की आधारशिला आखिरकार रखी गई और जल्द ही रामलला की मूर्ति स्थापित की जाएगी, जिससे भगवान श्री राम सैकड़ों वर्षों के बाद अपने सही स्थान पर वापस आएंगे। अपने संबोधन में, मंत्री ने मठ के मठाधीश, संत माधवाचार्य जी, संत राघवेंद्र स्वामी जी जैसी प्रमुख आध्यात्मिक हस्तियों के प्रति भी सम्मान व्यक्त किया और दक्षिण की समृद्ध वैष्णव परंपरा और उसके सभी श्रद्धेय संतों को स्वीकार किया।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments