Monday, July 15, 2024
HomePoliticalअब केजरीवाल से चर्चा, 2024 से पहले विपक्ष को एकजुट करने दिल्ली...

अब केजरीवाल से चर्चा, 2024 से पहले विपक्ष को एकजुट करने दिल्ली आए नीतीश कुमार

दिल्ली में ट्रांसफर-पोस्टिंग पर केंद्र के अध्यादेश के खिलाफ नीतीश और तेजस्वी ने केजरीवाल का समर्थन किया है। केजरीवाल ने नीतीश से देशभर के विपक्षी दलों को इस मुद्दे पर एकजुट करने की अपील की है। लोकसभा चुनाव 2024 के मद्देनजर विपक्षी एकता को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार फिर दिल्ली पहुंचे हैं। उन्होंने दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल से रविवार को उनके आवास पर मुलाकात की।

केंद्र सरकार द्वारा दिल्ली में ट्रांसफर पोस्टिंग पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ लाए गए अध्यादेश पर अरविंद केजरीवाल ने देश के सभी विपक्षी दलों से समर्थन मांगा है। उन्होंने नीतीश कुमार से भी सभी पार्टियों के मुखिया से इस बारे में चर्चा करने की मांग की है। अब सवाल है कि क्या कांग्रेस इस मुद्दे पर केजरीवाल के समर्थन में आएगी? क्या नीतीश कुमार, अरविंद केजरीवाल के लिए कांग्रेस समेत अन्य दलों से समर्थन मांगेंगे? इसका 2024 की मोर्चेबंदी पर कितना असर पड़ेगा?

दिल्ली में ट्रांसफर-पोस्टिंग पर केंद्र सरकार के अध्यादेश के खिलाफ नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव ने अरविंद केजरीवाल का समर्थन किया है। केजरीवाल के आवास पर रविवार को हुई बैठक के बाद नीतीश ने कहा कि जब चुनी हुई सरकार बनती है, उन्हें जो अधिकार मिले हैं, वो कैसे कोई हटा सकता है। देशभर में सभी एकजुट हों। ताकि ये लोग (बीजेपी) संविधान या किसी भी चीज को इधर से उधर न कर सके। दिल्ली में केजरीवाल को लोगों ने बहुमत दिया है। ये अच्छा काम कर रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बावजूद राज्य सरकार को काम करने से रोक दिया जा रहा है।

वहीं, बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने कहा कि गैर बीजेपी शासित राज्यों में केंद्र लगातार सरकारों को परेशान कर रही है। अरविंद केजरीवाल जो परेशानी झेल रहे हैं, पूरी तरह से हम उनके समर्थन में हैं। सुप्रीम कोर्ट ने जब फैसला सुना दिया, तो सभी चीजें स्पष्ट हो गईं। केंद्र का अध्यादेश लोकतंत्र पर खतरा है। ये (बीजेपी) संविधान को बदलना चाहते हैं, जो हम होने नहीं देंगे।

अरविंद केजरीवाल ने नीतीश से की समर्थन जुटाने की अपील
इसके बाद अरविंद केजरीवाल ने नीतीश कुमार से अध्यादेश के मुद्दे पर देशभर के विपक्षी दलों को बीजेपी सरकार के खिलाफ एकजुट करने की अपील की। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार लोकसभा चुनाव में विपक्षी एकता को लेकर विभिन्न पार्टियों से मिलेंगे। अगर वे उनसे इस मुद्दे पर साथ देने की अपील करेंगे और केंद्र सरकार अगर दिल्ली के अध्यादेश को बिल के रूप में लेकर आती है, तो राज्यसभा में उसे हार का मुंह देखना पड़ेगा। ये तभी होगा जब सभी दल बीजेपी सरकार के खिलाफ एकजुट हो जाएंगे।

क्या केजरीवाल के लिए कांग्रेस को साथ लाएंगे नीतीश?
अरविंद केजरीवाल ने इशारों ही इशारों में नीतीश से जाहिर कर दिया कि ट्रांसफर पोस्टिंग के अध्यादेश पर अगर कांग्रेस भी उनके साथ आ जाती है, तो 2024 की मोर्चेबंदी आसान हो जाएगी। केजरीवाल संसद में समर्थन जुटाने के लिए आने वाले दिनों में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी समेत अन्य नेताओं से मुलाकात करने वाले हैं। उन्होंने नीतीश कुमार से भी विपक्षी नेताओं से मिलकर उनके साथ लाने की अपील की है।

क्योंकि केजरीवाल और कांग्रेस के बीच अक्सर तनातनी रहती है। नीतीश भले ही कांग्रेस को साथ रखकर विपक्षी मोर्चेबंदी करने में जुटे हैं, लेकिन केजरीवाल, ममता सरीखे नेता इससे कम सहमत हैं। नीतीश कुमार अब कांग्रेस को अध्यादेश के मुद्दे पर केजरीवाल के साथ खड़ा करने में सफल होते हैं या नहीं, यह तो आने वाला वक्त ही बताएगा। राजनीतिक जानकारों का मानना है कि अगर नीतीश इस काम में सफल होते हैं तो 2024 में विपक्षी मोर्चेबंदी आसान हो सकती है। 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments